Category Archives: Other Schemes

खेत तालाब योजना

इस योजना का उद्देश्य कृषि के समग्र विकास के लिए सतही तथा भूमिगत जल की उपलब्धता को बढ़ावा है। सभी वर्गों के किसानों को इसका लाभ दिया जाता है। किसान स्वेच्छा से तालाब के तीन मॉडलों में से एक का चयन कर सकता है। सभी वर्गों के किसानों को लागत का 50 प्रतिशत अनुदान दिया

Read More

नि:शुल्क विद्युत प्रदाय

योजना का स्वरूप- इस योजना के अंतर्गत गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले अनुसूचित जाति व जनजाति के एकलबत्ती उपभोक्ताओं को 25 यूनिट प्रतिमाह तथा एक हेक्टेयर तक की जमीन वाले पाँच हार्सपावर तक के अनुसूचित जाति व जनजाति के कृषि उपभोक्ता लाभान्वित होगें। हितग्राही चयन प्रक्रिया- हितग्राहियों को उपरोक्त सुविधा सादे कागज

Read More

राष्ट्रीय बायोगैस विकास कार्यक्रम

उद्देश्य- गोबर गैस पर आधारित बायोगैस संयंत्र की स्थापना योजना का स्वरूप एवं कार्य क्षेत्र- गोबर गैस संयंत्र की स्थापना उन हितग्राही के यहां आसानी से की जा सकती है जिनके पास पर्याप्त मात्रा में पशुधन#गोबर उपलब्ध हो। इस योजना के अंतर्गत संयंत्र की क्षमता के आधार पर रु. 2100 से रु. 3500#- तक का

Read More

रानी दुर्गावती अनु. जाति/जनजाति स्वरोजगार योजना

स्वयं का उद्योग सेवा एवं व्यवसाय प्रारंभ करने के लिये वित्तीय संस्थाओं द्वारा ऋण प्रदान किया जाता है। हितग्राहियों को स्वरोजगार में स्थापित होने के लिये स्वयं मार्जिन मनी लगाना पड़ती है, वे यह राशि लगाने में असमर्थ होते हैं। उस स्थिति में उन्हें मार्जिन मनी के रूप में सहायता प्रदान की जाती है। हितग्राही

Read More

प्रधानमंत्री रोज़गार योजना

उद्देश्य- शिक्षित बेरोज़गार युवकों को स्वयं का उद्योग/सेवा/व्यवसाय स्थापित करवाकर स्वरोज़गार उपलब्ध करवाना। योजना का स्वरूप और कार्यक्षेत्र- इस योजना में शिक्षित बेरोज़गारों को सभी आर्थिक रूप से योग्य गतिविधियों, जिसमें कृषि और सहायक गतिविधियाँ भी शामिल होती हैं, उनके लिये ऋण स्वीकृत किया जाता है। सीधे कृषि क्षेत्र में जैसे फसलों की खेती, खाद

Read More

संरचना उत्पादन एवं प्रक्रिया-

सहकारी समितियों एवं स्वसहायता समूहों को चर्म शोधन/चर्म सामग्री, मिट्टी के बर्तन, धान एवं अनाज, कुटाई चावल मिल, आटा मिल, बेकरी, तेल पराई, ताड़, गन्ने का गुड़, खाण्डसारी, फल/सब्जियों को डिब्बा बंद करना, कृषि/वन उत्पादों का प्रसंस्करण, लोहारी, बढ़ाईगिरी, मधुमक्खी पालन, हस्तशिल्प, रेशम, रेशा कताई, बुनाई, वस्त्रोद्योग, जिल्दसाजी, मुद्रण लकड़ी का समान एवं अन्य उद्योगों

Read More

हाथकरघा संचालनालय द्वारा संचालित योजनाएं

वेलफेयर पैकेज (स्वास्थ्य बीमा योजना)-हाथकरघा बुनाई से अपनी आय का कम से कम 50 प्रतिशत भाग अर्जित करने वाले बुनकर 80 वर्ष की आयु तक स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ प्राप्त कर सकते है। इस योजना में वार्षिक बीमा प्रीमियम रुपये 1000/- है। जिसमें रुपये 800/- प्रतिवर्ष भारत सरकार द्वारा, रुपये 100/- प्रतिवर्ष राज्य शासन

Read More

एकीकृत टसर रेशम विकास एवं विस्तार

प्रदेश के बालाघाट, सिवनी, मंडला, नरसिंहपुर, सीधी एवं झाबुआ के वन क्षेत्रों में साझा -अर्जुन के पौधों पर टसर कृमि पालन हेतु बैसिक सीड निशुल्क उपलब्ध कराया जाता है। हितग्राहियों द्वारा संग्रहित टसर ककून निर्धारित दरों पर क्रय किया जाता है। संपर्क- सहायक संचालक जिला रेशम कार्यालय।

इरी रेशम विकास एवं विस्तार कार्यक्रम

अरण्डी के पौधे पर रेशम कीटपालन के माध्यम से रोजगार सृजन हेतु इच्छुक हितग्राहियों को न्यूनतम 5 वर्ष तक निरन्तर अरण्डी पौध रोपण के अनुबंध के आधार पर एक एकड़ अरण्डी बीज रोपण एवं संधारण हेतु रु. 3000/- कृमिपालन उपकरणों हेतु रु. 4000/- तथा कृमिपालन गृह निर्माण हेतु रुपये 10000/- की सहायता विशेष परियोजना के

Read More

रेशम संचालनालय द्वारा संचालित योजनाएं

मलबरी रेशम विकास एवं विस्तार योजना- रेशम उत्पादन के माध्यम से रोजगार के इच्छुक हितग्राहियों को अपनी निजी स्वामित्व की आधा/एक एकड़ अधिकतम 5 एकड़ तक सिंचित भूमि पर शहतूती पौध रोपण हेतु नि:शुल्क मलबरी पौधे एवं तकनीकी मार्गदर्शन दिया जाता है। एक एकड़ पौधरोपण पर रु. 1750/- के टूल किट अनुदान पर दिये जाते

Read More